chessbase india logo

विश्व शतरंज में हम्पी की वापसी - जीता फीडे ग्रांड प्रिक्स खिताब

by Niklesh Jain - 23/09/2019

भारतीय शतरंज के लिए सितंबर माह जाते जाते बड़ी खुशखबरी लेकर आया है भारतीय महिला शतरंज की निर्विवाद तौर पर अब तक की सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाड़ी एक बार फिर लय में लौट आई है । कोनेरु हम्पी नें रूस के मॉस्को में चल रहे फीडे महिला ग्रांड प्रिक्स का खिताब अपने नाम कर लिया है । 11 राउंड के राउंड रॉबिन मुक़ाबले में कोनेरु नें 5 जीत और 6 ड्रॉ के साथ अविजित रहते हुए 8 अंक बनाकर विजेता बनने का गौरव हासिल किया इसके साथ ही विश्व शतरंज में उन्होने धमक के साथ वापसी की है । 2577 रेटिंग अंको के साथ कोनेरु विश्व लाइव रेटिंग में अब तीसरे स्थान पर पहुँच गयी है । प्रतियोगिता में चीन की विश्व चैम्पियन जू वेंजून दूसरे तो रूस की अगली विश्व चैंपियनशिप चैलेंजर अलकसांद्रा गोरयाचिकना तीसरे स्थान पर रही । भारत की हरिका द्रोणावल्ली के लिए प्रतियोगिता ज्यादा अच्छी नहीं बीती और 5 अंक के साथ वह सातवे स्थान पर रही । पढे यह लेख 

कोनेरु पूरी प्रतियोगिता मे अविजित रहने वाली एकमात्र खिलाड़ी रही 

स्कोल्कोवों फीडे महिला  ग्रांड प्रिक्स अगले वर्ष होने वाले फीडे कैंडीडेट के पहले ग्रांड प्रिक्स का पहला चरण है । इसमें विश्व की 12 शीर्ष खिलाड़ियों को शामिल किया गया और राउंड रॉबिन आधार पर मुक़ाबले खेले गए । भारत की कोनेरु हम्पी और हरिका द्रोणावल्ली नें इसमें भाग लिया और अब वह आने वाली 2 और ग्रांड प्रिक्स मे भी नजर आएंगी । 

भारतीयों के लिए गर्व का वह क्षण जब राष्ट्रगान की धुन को रूस में हम्पी के जीतने पर बजाया गया 

जब से फीडे नें महिला ग्रांड प्रिक्स को विश्व चैंपियनशिप से जोड़ा है इसका महत्व काफी बढ़ गया है पहले पड़ाव के समापन के बाद आने वाले समय में दिसंबर 2019,मार्च 2020 और मई 2020 में बाकी की तीन ग्रांड प्रिक्स खेली जाएंगी । 

जैसी की उम्मीद लगाई जा रही थी अंतिम राउंड में कोनेरु नें सफ़ेद मोहरो से खेलते हुए आसानी से मैच को बराबरी पर रखा और जू वेंजून के लिए बढ़त बनाने का कोई मौका नहीं दिया और चूकि हम्पी आधा अंक की बढ़त पर थी और जू दूसरे स्थान पर हम्पी नें 8 अंको के साथ चैंपियनशिप जीत ली । 

हम्पी की इस जीत पर देखे विडियो विश्लेषण हिन्दी में 

हिन्दी चेसबेस इंडिया के सौजन्य से

बेहतर टाईब्रेक के आधार पर 7.5 अंक बनाकर वर्तमान विश्व चैम्पियन जू वेंजून दूसरे स्थान पर रही 

तो विश्व चैंपियनशिप चैलेंजर रूस की युवा खिलाड़ी अलकसान्द्रा गोरयाचिकना 7.5 अंक बनाकर टाईब्रेक के कारण तीसरे स्थान पर रही 

हम्पी के साथ ड्रॉ खेलकर टूर्नामेंट की शुरुआत करने वाली हरिका के लिए टूर्नामेंट अच्छा साबित नहीं हुआ और वह 5 अंक बनाकर सातवे स्थान पर रही 

इस जीत नें हम्पी को ग्रांड प्रिक्स की इस दौड़ मे 160 अंको के साथ सबसे आगे खड़ा कर दिया है जबकि हरिका यहाँ भी 60 नाक लेकर सातवे स्थान पर है 

प्रतियोगिता की फ़ाइनल अंक तालिका 

देखे सभी मुक़ाबले