chessbase india logo

Fritz 17 including Fat Fritz is OUT now

World's longest lasting chess program and highest selling chess software, Fritz 17 now comes with neural network Fat Fritz*. The "most popular chess program" (according to German magazine Der Spiegel) offers you everything you will need as a dedicated chess enthusiast, with innovative training methods for amateurs and professionals alike, plus access to the full suite of ChessBase web apps, including the Playchess playing server.

सीआरजी कृष्णा बने दिल्ली चेसबेस इंडिया ब्लिट्ज़ किंग ,विजेताओं को मिले सॉफ्टवेयर और किताबे

21/01/2020 -

चेसबेस इंडिया ब्लिट्ज़ का तीसरा संस्करण एक बार फिर दिल्ली इंटरनेशनल शतरंज के दौरान खेला गया । 14 जनवरी को खेले गए चेसबेस इंडिया ब्लिट्ज़ में 7 देशो के 165 खिलाड़ियों नें भाग लिया बड़ी बात इसमें 2 ग्रांड मास्टर , 4 इंटरनेशनल समेत कुल 24 फीडे टाइटल होल्डर तो 148 रेटेड खिलाड़ियों का प्रतिभागिता करना रहा । 2018 में भोपाल ,2019 में दिल्ली और इस बार आयोजित इस स्पर्धा का मुख्य उद्देश्य खिलाड़ियों को शतरंज की तैयारी के लिए सबसे बेहतरीन सॉफ्टवेयर और साहित्य पुरूष्कार के तौर पर देना  होता है ताकि वह अपने खेल को बेहतर करने के लिए काम कर सके । खैर इस बार का खिताब भारत के सीआरजी कृष्णा नें जीता तो दूसरे स्थान पर नीलाश सहा रहे जबकि तीसरे स्थान पर आर्यन वर्षने रहे । मुक़ाबले कुछ यूं हुए की टॉप सीड तजाकिस्तान के फारुख अमानतोव सातवे स्थान पर रहे । पढे यह लेख 

फिर जीती जू वेंजून : विश्व शतरंज खिताब के करीब

20/01/2020 -

विश्व महिला शतरंज चैंपियनशिप के पिछले तीन मैच में लगातार जीत हार के परिणाम नें चीन की मौजूदा विश्व चैम्पियन जू वेंजून के पक्ष में स्कोर पहुंचा दिया है । हालांकि तीनों मैच रूस की आलेक्सान्द्रा गोरयाचकिना जीत सकती थी पर उनके खराब एंडगेम तकनीक नें उनसे दो मुक़ाबले छीनकर वेंजून की झोली में डाल दिये और फिलहाल जब सिर्फ 2 राउंड बाकी है 1 अंक की साफ बढ़त के साथ जू वेंजून अपने लगातार तीसरे विश्व खिताब की ओर बढ़ रही है । अब अंतिम दो राउंड में अगर गोरयाचकिना को खिताब की दौड़ में बने रहना है तो उन्हे 1.5 अंक बनाने होंगे तभी मुक़ाबला टाईब्रेक में जाएगा या फिर लगातार दो जीत उन्हे विश्व विजेता बना सकती है । पर जू वेंजून के लिए दो ड्रॉ और 1 जीत में से कुछ भी उन्हे पुनः विश्व विजेता बना देगा । देखना होगा की एक दिन के विश्राम के बाद जब यह मुक़ाबला शुरू होगा तो परिणाम किसके खाते में जाता है । पढे यह लेख 

विश्व महिला चैंपियनशिप - वेंजून नें जीती हारी बाजी :स्कोर फिर बराबर ,अब बस 3 राउंड है बाकी

19/01/2020 -

विश्व महिला शतरंज चैंपियनशिप भले ही चीन से अब रूस मे पहुँच गयी है पर रोमांच बढ़ता ही जा रहा है । चीन मे खेले गए पहले छह राउंड के बाद स्कोर जहां 3-3 था । रूस मे खेला गया सातवाँ राउंड तो ड्रॉ रहा पर आठवे राउंड मे गोरयाचकिना नें जीत दर्ज करते हुए बढ़त कायम कर ली और नौवे राउंड मे वह दूसरा मैच भी जीतने के करीब पहुँच गयी थी पर कहते है की विश्व चैम्पियन बनना सिर्फ खेल की बात नहीं है और अपनी भावनाओं पर नियंत्रण भी उतना ही जरूरी है और यहाँ वही हुआ गोरयाचकिना जीती बाजी हार गयी और वेंजून नें वापसी कर मैच जीतकर हिसाब बराबर कर दिया और चुकी अब स्कोर 4.5-4.5 है देखना होगा की अंतिम तीन राउंड मे कौन विश्व खिताब जीतेगा ?

पी टी उमरकोया : भारतीय शतरंज के एक युग का अवसान

18/01/2020 -

1985 से 2005 तक संयुक्त सचिव एवं सचिव की हैसियत से कुल दो दशकों तक भारतीय शतरंज को अपनी कल्पनाशीलता, रचनात्मकता और प्रयोगधर्मिता से विश्व पटल पर स्थापित करनेवाले शतरंज शिल्पी पी टी उमरकोया का बीते 14 जनवरी 2020 को देहावसान हो गया। इसी के साथ अवसान हो गया एक अध्याय का। एक ऐसे अध्याय का जिसने भारतीय शतरंज को विश्व शतरंज के मानचित्र पर स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। विश्व शतरंज संघ के उपाध्यक्ष  बनने वाले वह भारत से पहले व्यक्ति थे  और विश्व शतरंज संघ नें उनके निधन पर दुख प्रकट करते हुए श्रद्धांजलि व्यक्त की । पढे धर्मेंद्र कुमार का यह लेख । 

शानदार जीत के साथ अभिजीत बने दिल्ली इंटरनेशनल के विजेता,जीता 6 लाख 50 हजार रुपेय का पुरुष्कार

17/01/2020 -

जैसी उम्मीद थी कुछ वैसा ही मैच हुआ दिल्ली इंटरनेशनल के खिताब के लिए । 7.5 अंको पर खेल रहे अभिजीत गुप्ता नें 8 अंको पर आगे चल रहे बेलारूस के ग्रांड मास्टर और इस प्रतियोगिता के पूर्व विजेता आलेक्सन्द्रोव अलेक्सेज़ को पराजित करते हुए खिताब जीत लिया । दबाव के क्षणों मे बेहतर करने की काबलियत नें अभिजीत के नाम ना सिर्फ यह खिताब तीसरी बार अपने नाम किया बल्कि 2014 के बाद से एक बार यह खिताब वह भारत लेकर आए । अभिजीत नें भारत के किसी भी टूर्नामेंट का सबसे बड़ा पहला पुरूष्कार 6 लाख 50 हजार भी अपने नाम किया । बड़ी बात भारत सिंह की यह घोषणा रही की  "भारत और दिल्ली 2024 के शतरंज ओलंपियाड के आयोजन के लिए आवेदन करने जा रहा है "  पढे यह लेख 

दिल्ली इंटरनेशनल – अभिजीत अलेक्सेज़ में बड़ा मुक़ाबला ,प्रणेश को ग्रांड मास्टर नार्म

16/01/2020 -

दिल्ली इंटरनेशनल 2018 के संस्करण का बादशाह कौन होगा इसका फैसला बस कुछ ही घंटो में हो जाएगा । आज पहले बोर्ड पर भारत के अभिजीत गुप्ता के पास खिताब जीतने का तीसरा मौका होगा जब वह पहले बोर्ड पर बेलारूस के अनुभवी ग्रांड मास्टर और दिल्ली ओपन के पूर्व विजेता अलेक्सेज़ आलेक्सन्द्रोव के सामने सफ़ेद मोहरो से मुक़ाबला खेलेंगे । अंतिम राउंड के पहले ही भारत के खाते में दो खुशखबरी आई जब 13 वर्षीय एम प्रणेश नें ग्रांड मास्टर नार्म हासिल कर लिया तो औदी अमेय नें इंटरनेशनल मास्टर का नार्म हासिल किया । अंतिम दिन कुछ और खिलाड़ियों के नार्म हासिल करने की संभावना भी बनी हुई है । इस बीच चेसबेस इंडिया नें दिल्ली ओपन के दौरान पिछले वर्ष की भाति ब्लिट्ज़ टूर्नामेंट का आयोजन एक बार फिर सफलता पूर्वक किया । पढे यह लेख 

18 वां दिल्ली इंटरनेशनल - अलेक्सेज़ सबसे आगे,हिमल दूसरे स्थान पर पहुंचे,सी केटेगरी में है 1300 खिलाड़ी

14/01/2020 -

देश की राजधानी दिल्ली में चल रहे विश्व के सबसे बड़े शतरंज आयोजनो में से एक दिल्ली इंटरनेशनल ग्रांड मास्टर शतरंज चैंपियनशिप में मुख्य वर्ग में ख़िताबी रोमांच जारी है और आने वाले राउंड में यह और रोचक होता चला जाएगा । कल एक अंक की बढ़त कायम करने वाले बेलारूस के अलेक्सेज़ आलेक्सन्द्रोव नें सातवे राउंड में उक्रेन के एडम तुखेव से ड्रॉ खेलते हुए 6.5 अंक बना लिए हालांकि अब उनकी बढ़त महज आधा अंक की रह गयी है और भारत के हिमल गुसेन और बेलारूस के ही अलेक्सी फेडोरोव 6 अंको पर पहुँच गए है । पिछले वरह दुनिया के सबसे बड़े फीडे रेटेड आयोजन से नवाजे जा चुके  दिल्ली इंटरनेशनल में रिकॉर्ड 1300 खिलाड़ियों के साथ वर्ग सी के मुक़ाबले भी शुरू हो गए है और एक साथ इतने खिलाड़ियों को खेलते देखना भी अपने आप में एक अनोखा नजारा है । पढे यह लेख 

हिमांशु मुदगिल ने जीता दिल्ली इंटरनेशनल कैटेगरी बी का खिताब

13/01/2020 -

अखिल भारतीय शतरंज संघ से संबंद्ध दिल्ली शतंरज संघ के आयोजन में 9 जनवरी से भव्य इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम में शुरू हुई 18वीं दिल्ली इंटरनेशनल ओपेन ग्रांडमास्टर चेस के कैटगरी बी के टूर्नामेण्ट का शानदार समापन 12 जनवरी को हुआ। 10 चक्रों के मैच में 4 खिलाड़ियों ने अपराजित रहते हुए 9 अंक बनाकर चैम्पियनशिप के खिताब के लिए मजबूत दावेदारी पेश की, लेकिन बेहतर टाइब्रेक के आधार पर दिल्ली के हिमांशु मुदगिल (1731) ने खिताब अपने नाम कर लिया। वहीं उपविजेता का खिताब टूर्नामेण्ट के हीरो बन कर उभरे आंध्र प्रदेश के 10 वर्षीय मोहम्मद इमरान (1782) ने जीत लिया। तीसरे स्थान पर दिल्ली के अनुभवी खिलाड़ी व बेहतरीन कोच चंदन मंडल रहे। पढ़े नितेश श्रीवास्तव की रिपोर्ट, फोटो निकलेश जैन

18 वां दिल्ली इंटरनेशनल - कार्तिक को हराकर अलेक्सेज़ हुए सबसे आगे , क्या जीतेंगे खिताब ?

13/01/2020 -

दिल्ली इंटरनेशनल ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट अब अपने निर्णायक पड़ाव की ओर बढ़ चला है और फिलहाल छह राउंड के बाद बेलारूस के अनुभवी ग्रांड मास्टर अलेक्सेज़ आलेक्सन्द्रोव लगातार अपनी छठी जीत दर्ज करते हुए सबसे आगे निकल गए है और फिलहाल पूरे एक अंक की बढ़त हासिल कर चुके है । खैर यह कहना गलत नहीं होगा की छठे राउंड में वह काफी भाग्यशाली रहे क्यूंकी वह ओपनिंग से ही वह भारत के कार्तिक वेंकटरमन के खिलाफ पूरी तरह से मुश्किल में थे पर कार्तिक स्थिति को सही तरीके से सम्हाल नहीं सके और मुक़ाबला हार गए । छह राउंड के बाद कार्तिक वेंकटरमन ,एडम तुखेव  समेत कुल 13 खिलाड़ी 5 अंको पर खेल रहे है अब देखना होगा की अंतिम चार राउंड में खेल किस तरफ जाता है और कौन बढ़त बनाता है । पढे यह लेख 

विश्व महिला शतरंज में गोरयाचकिना की शानदार वापसी

12/01/2020 -

एक दर्शक के नाते जब विश्व शतरंज चैंपियनशिप देखते है तो आप इसी तरह का मुक़ाबला देखना चाहते है जो की फिलहाल महिला विश्व शतरंज चैंपियनशिप में चल रहा है ,सबसे पहले राउंड 4 में मौजूदा विश्व चैम्पियन चीन की जु वेंजून नें युवा चैलेंजर रूस की गोरयाचकिना को मात देते हुए बढ़त बनाई तो पांचवे राउंड में गोरयाचकिना नें वापसी करते हुए जीत दर्ज कर स्कोर एक बार फिर बराबर कर दिया अब देखना यह होगा की दो भागो में हो रही प्रतियोगिता में चीन में अंतिम छठा राउंड खेला जाएगा और इसके बाद प्रतियोगिता रूस में खेली जाएगी तो क्या विश्व चैम्पियन जू वेंजून एक बार फिर बढ़त हासिल कर पाएँगी । पढे यह लेख 

दिल्ली इंटरनेशनल - पेरु के मार्टिनेज से हारे हिमल ,कार्तिक और कृष्णा की आसान जीत

12/01/2020 -

देश की राजधानी दिल्ली में चल रहे 18वे दिल्ली इंटरनेशनल शतरंज में तीसरे दिन शीर्ष खिलाड़ियों के लिए कुछ के लिए आसान तो कुछ के लिए मुश्किल मुक़ाबले और परिणाम लेकर आया । तीन राउंड तक खास पेयरिंग का दायरा खत्म होते ही कई निचले वरीय रेटेड खिलाड़ी उपर बोर्ड पर आ गए और परिणाम स्वरूप उपर के कुछ बोर्ड पर बेहद आसान मुक़ाबले देखेने को मिले । हालांकि पहले दो बोर्ड पर भारत के लिए खबर अच्छी नहीं रही जब पहले बोर्ड पर पेरु के मार्टिनेज एडुयार्डो के सामने भारत के हिमल को हार का सामना करना पड़ा तो दूसरे बोर्ड पर निरंजन नवलगुंड को हार को अनुभवी अलेक्सेज़ के हाथो हार का सामना करना पड़ा । कल के नायक रहे मुथैया को भी राउंड 4 में टॉप सीड ओमानतोव से हार का सामना करना पड़ा । तीसरे और चौथे बोर्ड पर क्रमशः कार्तिक वेंकटरमन और सीआरजी कृष्णा आसान जीत से सयुंक्त बढ़त पर बने हुए है । पढे यह लेख 

18वां दिल्ली इंटरनेशनल - भारत के मुथैया के नाम रहा दूसरा दिन

11/01/2020 -

18 वे दिल्ली इंटरनेशनल ग्रांड मास्टर शतरंज चैंपियनशिप का दूसरा दिन पूरी तरह से भारत के मुथैया एएल के नाम रहा जिन्होने पहले तो दूसरे राउंड में पिछले वर्ष के विजेता जॉर्जिया के ग्रांड मास्टर लेवन पंट्सूलिया को अपने बेहतरीन खेल से पराजित किया और उसके बाद तीसरे राउंड मे भारत के ग्रांड मास्टर विसाख एनआर को मात देते हुए लगातार तीसरी जीत दर्ज की और फिलहाल 3174 के रेटिंग के प्रदर्शन के साथ 3 अंक बनाकर सयुंक्त बढ़त पर चल रहे है राउंड 4 में उनके सामने टॉप सीड तजाकिस्तान के फारुख ओमानतोव होंगे । खैर अन्य भारतीय खिलाड़ियों में राउंड 3 में अभिजीत गुप्ता को हराते हुए कार्तिक वेंकटरमन ,ईरान के आर्यन घोलामी को हराकर हिमल गुसेन तो रूस के ग्रांड मास्टर यूडिन सेरगई को मात देते हुए निरंजन नवलगुंड भी 3 जीत दर्ज सयुंक्त पहले स्थान पर चल रहे है । चेसबेस इंडिया का नॉलेज स्टाल भी अब दिल्ली ओपन पहुँच गया है जहां आप हमसे मिल सकते है और शतरंज की हार जानकारी जरूरत पूरी कर सकते है। 

गोरयाचकिना को हरा जू वेंजून नें विश्व महिला शतरंज में बनाई बढ़त

10/01/2020 -

आखिरकार विश्व महिला शतरंज चैंपियनशिप में पहली जीत की खबर आ गयी है और अनुभवी मौजूदा विश्व चैम्पियन चीन की जू वेंजून नें युवा चुनौती रूस की आलेक्सान्द्रा गोरयाचकिना को लगातार तीन ड्रॉ के बाद चौंथे राउंड में पराजित करते हुए 2.5-1.5 से बढ़त बना ली है अब एक दिन विश्राम के बाद वह राउंड 5 और 6 खेलने उतरेंगी तो चीन में पहले पड़ाव के खत्म होने तक वह निश्चित तौर पर अपनी बढ़त को मजबूत करना चाहेंगी तो वही युवा गोरयाचकिना रूस में मैच पहुँचने के पहले हिसाब बराबर करना चाहेंगी और इसके साथ ही अवह यह भी तय हो गया है की आने वाले राउंड बेहद रोमांचक होंगे । पढे यह लेख