chessbase india logo

"आंखो में आसूं लिए तिरंगे को देखता हूँ "- आनंद

by Niklesh Jain - 30/12/2017

"यह मेरा सौभाग्य है की मैंने हर बार जीतने के बाद राष्ट्रगान सुना ,यह एक लम्हा ही मुझे वापसी के लिए प्रेरित करता रहा है ,जब आंखो में आसूं लिए आप भारतीय तिरंगे को धीरे धीरे उपर जाते देखते है " विश्वनाथन आनंद ने माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विश्व चैम्पियन बनने पर दिये बधाई संदेश पर जब ये जबाब दिये तो जैसे मुझे भी असीम गर्व की अनुभूति हुई । 48 साल की उम्र में आनंद का विश्व चैम्पियन बनने के कारनामे नें सचमुच उन्हे ही नहीं दुनिया भर को रोमांचित कर दिया , यहाँ तक की उनके कड़े प्रतिद्वंदी रहे पूर्व विश्व चैम्पियन कास्पारोव नें भी उन्हे बधाई दी तो भारत के महामहिम राष्ट्रपति से लेकर हर किसी नें उनकी इस जीत के बाद भारत और खुद को गौरान्वित महसूस किया पढे यह लेख !!

रियाध ,सऊदी अरब , भारतीय ग्रांड मास्टर विश्वनाथन आनंद नें 48 वर्ष की आयु में इतिहास रचते हुए दुनिया भर के सभी युवा दिग्गज खिलाड़ियों को पीछे छोड़ते हुए विश्व रैपिड शतरंज चैम्पियन होने का गौरव हासिल कर लिया है । शतरंज के ब्लिट्ज के बाद सबसे तेज फॉर्मेट रैपिड का खिताब जीतकर उन्होने सभी को चौंका दिया है । 15 राउंड की इस प्रतियोगिता में आनंद अविजित रहे और उन्होने कुल 9 ड्रॉ और 6 जीत दर्ज की और कुल 10.5 अंक बनाए  । इस दौरान उन्होने मौजूदा विश्व क्लासिकल चैम्पियन नॉर्वे के मेगनस कार्लसन ,रूस के दिग्गज अलेक्ज़ेंडर ग्रीसचुक ,अमेरिका के अकोबियन वरुजहन ,हंगरी के पीटर लेको ,रूस के अंटोन डेमचेंकों ,और इंग्लैंड के मेकशेन ल्यूक पर जीत दर्ज की ।  इनाम के तौर पर आनंद नें 1.5 लाख अमेरिकन डॉलर करीब 80 लाख रुपेय ही पुरुष्कार के तौर पर प्राप्त लिए । 

आनंद के बारे में हमेशा कम या फिर आलोचनात्मक बात करने वाले कास्पारोव को भी उन्हे इस प्रदर्शन पर बधाई देने पर हिचकिचाहट नहीं दिखाई 


तीन लोगो में हुआ टाई 15 राउंड के बाद भारत के विश्वनाथन आनंद ,रूस के व्लादिमीर फेडोसीव और इयान नेपोमनियची 10.5 अंक बनाकर सयुंक्त पहले स्थान पर थे । पर टाईब्रेक के आधार पर इयान नेपोमनियची पहले ही तीसरे स्थान पर थे जबकि पहले स्थान के लिए हुई दो ब्लिट्ज मैच की श्रंखला में आनंद नें फेडोसीव को 2-0 से पराजित करते हुए इतिहास रच दिया । 


कार्लसन रहे पांचवे स्थान पर 2013 के बाद से यह पहला मौका है जब  मौजूदा विश्व चैम्पियन मेगनस कार्लसन टॉप थ्री में जगह नहीं बना पाये ।

शुरुआत से ही शानदार खेल दिखाने वाले फेडोसीव को पहली हार कार्लसन से ही  मिली | Photo: Official website

महिला खिलाड़ियों में निराशा हाथ लगी । द्रोणावल्ली हरिका 19वे ,पदमिनी राऊत 22वे ,एस विजयालक्ष्मी 34वे तो ईशा करवाड़े 35 वे स्थान पर रही ।  

अन्य भारतीय खिलाड़ियों में पेंटाला हरिकृष्णा 16वे ,सूर्य शेखर गांगुली 60वे ,विदित गुजराती 61वे ,अधिबन भास्करन 65वे और सेथुरमन 96वे स्थान पर रहे । 
टॉप 10 खिलाड़ी कुछ यूं रहे । भारत के विश्वनाथन आनंद पहले , रुस के व्लादिमीर फेडोसीव दूसरे और ,रूस के ही इयान नेपोमनियची तीसरे स्थान पर रहे ,चीन के बू क्षियांग्जी चौंथे स्थान पर रहे ,नॉर्वे के मेगनस कार्लसन पांचवे ,रुस के अलेक्ज़ेंडर ग्रीसचुक छठे और बोरिस सेवेचेंकों सातवे ,अजरबैजान के ममेदेओ रौफ आठवे और गादिर गसिनोव नवे तो रूस के पीटर स्वीडलर दसवे स्थान पर रहे । .

दबाव के क्षणो में फेडोसीव पर भारी साबित हुए आनंद 

पाँच बार के विश्व चैम्पियन आनंद नें दिखाया की उनका अनुभव मायने रखता है ! 

आनंद की ग्रीसचुक के उपर जीत भी काफी महत्वपूर्ण थी  

 

 देखे आईएम सागर शाह क्या कहते है आनंद के मैच के बारे में

 

देखे क्या कहा विश्वनाथन आनंद नें विश्व रैपिड चैम्पियन बनने के बाद  Source: ChessCast

देखे अधिबन सेथुरमान नें रैपिड और ब्लिट्ज़ के बारे में और आनंद की जीत के बारे में क्या कहा

 

आखिर कैसे बने आनंद इतने बेहतर खिलाड़ी क्यूँ ना आप इसे सुने उन्ही के द्वारा और इसके लिए आपके पास होना चाहिए आनंद की यह डीवीडी 

इसमें आनंद आपको गैरी कसपरोव के उपर अपनी पहली जीत के बारे में आपको बताएँगे 

क्रामनिक को काले मोहरो से हराना भी एक बड़ी बात थी 

8 घंटे आनंद को सुनना कोई सामान्य बात नहीं एक डीवीडी की कीमत 999/- रुपेय है जबकि दोनों लेने पर यह आपको 1799/- में आती है पर आनंद के जीतने की खुशी में आज आप इसे 50% छूट पर ले सकते है .

इसके लिए आपको कूपन कोड  ANAND48 इस्तेमाल करना होगा 

Anand: My career Volume 1

Anand: My career Volume 2

Anand: My career Volume 1+2

*The coupon code is ANAND48

**Offer lasts until 31st of December 2017

 


Related news: