chessbase india logo

अरे बुरा ना मानो होली है !! रंगबिरंगी शुभकामनाए !

by Niklesh Jain - 21/03/2019

होली का नाम सुनते ही शरीर में जैसे आनंद उत्साह और हंसी ठिठोली जैसे शब्दो की बाढ़ आ जाती है,और ऐसा हो भी क्यूँ ना भारत के इस अनोखे त्योहार के पीछे उद्देश्य भी कुछ ऐसा ही है मतलब - ना कोई रंगभेद ,ना भाषा का भेद और ना मन का भेद दरअसल यह हर भारतवासी और इसकी अनेकता में एकता का प्रतीक है । होली की सबसे बड़ी खासियत है रंगो की फुहारे के बीच मतभेद भूलकर जीवन में आगे बढ़ना और एक दूसरे का मज़ाक उड़ाकर जीवन को मस्ती भरा बनाना तो आइये होली के इस मौके पर चेसबेस इंडिया आपके लिए लाया है हसने मुस्कराने के कुछ मौके और याद रखना अगर कुछ सही ना लगे तो भी !! बुरा ना मानो होली है ! निकलेश जैन के पिछले एक वर्ष के दौरान खीचे गयी  तस्वीरों से बयां होती कुछ कहानियाँ !

तो दोस्तो हमारी चेसबेस इंडिया की होली टीम नें दुनिया भर में शतरंज का दौरा करने के बाद कुछ खास रेपोर्टिंग की है और ये अनसुने किस्से कहानियाँ आपके सामने है ! जिसमें कुछ सच्चाई भी है और कुछ अटकले भी कुछ किस्से तो कुछ कहानियाँ और कुछ आपके लेखक के खुरापाती दिमाग की उपज !

जब आर्कादी बने फीडे प्रेसिडेंट 

आपको तो पता ही है की इस बार के फीडे प्रेसिडेंट के चुनाव में काफी हाइबोल्टेज ड्रामा हुआ पर आखिरकार रूस के पूर्व उपप्रधानमंत्री आर्कादी द्वोर्कोविच नें एक आसान सी जीत दर्ज की तो फिर उन्होने पूछ ही लिया की भाई मोक्रोपोलेस जी ये आपको चुनाव लड़ने का आइडिया दिया किसने था ...... 

जब मोदी जी नें दी शतरंज की टिप्स 

हमारे माननीय प्रधान मंत्री मोदी जी की पहुँच से कोई भी ज्ञान दूर नहीं है आप भी देखो उन्होने भूटान के युवराज और परिवार से क्या कहा .... अरे भाई सच में 

अरे क्या आनंद बीजेपी में होंगे शामिल .... 

अब  चूकी चुनाव का मौसम है तो ये सवाल तो उठता है जनाब ! .... 

आनंद और  हरीकृष्णा की बातचीत ?

आनंद 50 के होने वाले है और अभी भी दुनिया भर में सफलता के झंडे गाड़ते रहते है और भारत के नंबर एक खिलाड़ी बने हुए है तो हरी क्या कह रहे है सुन लीजिये 

इन बच्चो को कौन समझाये ?टाइगर अभी जिंदा है !!

आनंद तो बस यही सोच रहे है की इन बच्चो को कौन समझाये - टाइगर अभी जिंदा है !

क्या दिल्ली ओपन में सबकी एंट्री फ्री है !???

दिल्ली ओपन की पुरुष्कार राशि अब एक करोड़ पहुँच गयी है और अब अगले संस्करण की तैयारी में यह क्या कह रहे है भारत सिंह जी .... 

अरे नहीं नहीं आपने गलत सुना !!

हमारे वर्मा जी नें हमारे कनफुजन ( सॉरी जी कन्फ़्यूजन ) को दूर कर दिया और बताया की भैया एंट्री तो लगेगी पर हाँ सुविधाए एकदम वर्ल्ड क्लास मिलेगी !

आखिर अनीश के मैच ड्रॉ क्यूँ हो जाते है ?

शतरंज की दुनिया में सबसे रहस्य का विषय बन चुके अनीश गिरि के ड्रॉ होते मैच पर हमारी खोजी टीम नें एक ताजा जानकारी निकाली है

( इसे आप खुफिया भी कह सकते है ) आप ही पढ़ लीजिये 

अरे अब यहाँ तो छोड़ दो ! अनीश बोले हमसे 

अरे अरे अनीश जी आप तो नाराज हो गए ! चलो कोई बात नहीं राज राज ही रहेगा !!

जब नाकामुरा का चश्मा गुम गया 

अरे आपको पता है जब हिकारु नाकमुरा ( अरे गलती हो गई नाकामुरा ) का फेवरेट चश्मा अरे मतलब गॉगल गुम गया तो बड़े नाराज हो गए भाई , भोलेनाथ की कसम खाई लिए वो तो भला हो चेसबेस इंडिया टीम का हम चश्मा ढूंढ लाये और दे दिये !

जब अधिबन दे देते है टेंसन 

अधिबन भास्करन कब कहाँ कैसा मोहरा कुर्बान कर दे अरे मतलब सेक्रिफ़ाइस कर दे कुछ भरोसा नहीं है भाई तो ऐसे में गुरु रमेश को कहना ही पड़ता है भाई आज जरा सम्हाल के बहुत टेंसन हो जाता है 

इवांचुक की परेशानी 

दुनिया के सबसे दिग्गज खिलाड़ियों में से एक इवांचुक और शतरंज की दुनिया के राजकपूर कुछ यूं सोच रहे है की आजकल के ये लड़के एक ही ओपनिंग क्यूँ खेलते है मेरे साथ 

जब हरिका हम्पी हुई एक क्लब में शामिल 

भारत की दोनों शीर्ष महिला खिलाड़ियों में विश्व महिला शतरंज चैम्पियन बनने की क्षमता है और हम्पी नें जहां तीन साल पहले वैवाहिक जीवन में एंट्री की तो अब हरिका भी इस क्लब में शामिल हो गयी उम्मीद है यह बदलाव भारत को विश्व विजेता बनाने में मददगार होगा क्या सोचते हो आप ?

अब जाते जाते लेवान अरोनियन का दुख तो सुन लेते है 

कभी आनंद के बाद अगले विश्व चैम्पियन बनने की कतार में खड़े लेवान अरोनियन हर बार विश्व चैंपियनशिप में पहुँचने से चूक जाते है विश्व कप से लेकर हर बड़े खिताब को जीतने वाले अरोनियन खुद से पूछ रहे है की दरअसल कैंडीडेट्स में उन्हे हो क्या जाता है 

मेगनस कार्लसन भले ही सारी विश्व चैंपियनशिप आजकल टाईब्रेक से जीतने मे यकीन रखते है पर विश्व रैपिड और ब्लिट्ज़ मे बादशाहत रखने में उन्हे ख़ासी मुसकिल जाती है और हार मानना जनाब को बिलकुल ही नहीं भाता है ।  अरे भाई कभी कभी दूसरों को भी कुछ जीत लेने दिया करे इतना स्वार्थी होना ! ये अच्छी बात नहीं है !! 

कुछ  तस्वीर हमने अपने दो वर्ष पुराने आर्टिकल से ली है जरा 2017 के होली के खास लेख पर नजर डाले 

अरे भाई सोना भी उतना ही जरूरी है 

चेसबेस इंडिया की सफलता के पीछे हमारे सागर और अमृता की मेहनत का सबसे बड़ा हाथ है और हो भी क्यूँ ना क्यूंकी सागर सोते समय भी इंटरव्यू के बारे मे सोचते है तो अमृता के दिमाग मेँ कुछ अलग अलग आइडिया आते रहते है 

तो दोस्तो होली के मौके पर मुझे कुछ हंसी मज़ाक करने की सूझी तो इस लेख को तैयार किया उम्मीद है आपको पसंद आएगा और आप भारत के इस महान त्योहार से सीख लेकर इस संदेश जो समझेंगे की भारत की एकता उसकी ताकत है और भले ही रंग अलग अलग हो पर एक साथ ही अच्छे लगते है ! वैसे लिखने को बहुत है और तस्वीरे भी ओर भी है पर खैर इतना प्रयास भी आपको अच्छा लगेगा यही उम्मीद है होली की शुभकामनाओ के साथ आपका दोस्त निकलेश जैन ! जय हिन्द !